छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले की एक अदालत ने दो बहनों से बलात्कार के मामले में एक तांत्रिक को 20-20 साल यानी कुल 40 वर्ष कारावास की सजा सुनाई है। विशेष लोक अभियोजक ताराचंद कोसले ने बृहस्पतिवार को बताया कि जिले की अपर सत्र न्यायाधीश (फास्ट ट्रैक कोर्ट) पूजा जायसवाल की अदालत ने दो बहनों से बलात्कार के मामले में तांत्रिक समय लाल देवांगन (48) को 20-20 वर्ष यानी कुल 40 वर्ष कारावास की सजा सुनाई है। ये दोनों सज़ाएं एक के बाद एक चलेंगी।

अधिवक्ता ने बताया कि अदालत ने अपने फैसले में कहा कि आरोपी की कारावास की सजा एक के बाद एक चलेगी। कोसले ने बताया कि अदालत ने आरोपी तांत्रिक पर कुल 10 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। अधिवक्ता ने बताया कि 2016 दिसंबर में 21 और 19 वर्ष की दो बहनों को पेट और कमर में दर्द की शिकायत पर उसके परिजन उन्हें तांत्रिक देवांगन के पास लेकर गए थे। जिसके बाद उसने ये शर्मनाक घटना को अंजाम दिया।

उन्होंने बताया कि देवांगन ने वर्ष 2017 की शुरुआत से इलाज करने के नाम पर दोनों बहनों से बलात्कार किया तथा किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी। अधिवक्ता ने बताया कि 2017 सितंबर में दोनों बहनों ने घटना की जानकारी अपने परिवार वालों को दी और अपने साथ हुई इस बर्बरियत की दास्ताँ बयां की। उन्होंने शहर के गुढ़ियारी थाने में तांत्रिक देवांगन के खिलाफ मामला दर्ज कराया।