बेंगलुरू :  बेंगलुरू (Bengaluru) में देश का पहला वातानुकूलित यानी एयर कंडीशंड रेलवे टर्मिनल बन कर लगभग तैयार है. इसमे वो सारी सहूलियतें है जो आमतौर पर एयरपोर्ट पर यात्रियों को मिलती है. रात में रोशनी में नहाया ये स्टेशन एक अलग छटा बिखेरता है. हर किसी को अपनी आंखों पर भरोसा नही होता कि ये करोड़ों जुगनुओं सा जगमगाता और रोशनी में नहाया रेलवे स्टेशन है. देश के इस पहले, एयरकंडीशंड रेलवे टर्मिनल का नाम है-सर एम विश्वेश्‍वरैया रेलवे टर्मिनल (Sir M Visvesvaraya Railway terminal). जो अंदर और बाहेर से काफी सुंदर और मनमोहक लगता है.

बाहर से यह टर्मिनल जितना खूबसूरत दिखता है, अंदर भी सुविधाएं उतनी ही बेहतर हैं. टिकट लेने के लिए अपनी बारी का इंतज़ार हो या फिर ट्रेन का. हर कुर्सी के साथ मोबाइल फ़ोन या लैपटॉप चार्ज करने के लिए चार्जिंग पॉइंट भी है. मशहूर फिल्‍मकार डॉ. आर बालकृष्ण कहते हैं, ‘मैं दुनियाभर में घूम चुका हूं. यहां ये सब देखकर न केवल बेंगलुरू के लोगों को, बल्कि देश के लोगो को गर्व होगा.’

एयरकंडीशंड रेलवे टर्मिनल में महिला और पुरुष प्रतीक्षालय के अलावा VVIP लाउंज भी है. 4200 स्‍क्‍वेयर मीटर एरिया में फैले इस टर्मिनल का 900 स्‍क्‍वेयर मीटर एरिया पूरी तरह से एयरकंडीशंड है.कुल सात प्लेटफार्म है. अनुमान है कि रोज़ 50 हज़ार के आसपास यात्रियों की आवाजाही यहां से होगी. फिलहाल इस टर्मिनल को ‘फिनिशिंग टच’ देने का काम चल रहा है. बेंगलुरू शहर का ये तीसरा बड़ा टर्मिनल होगा जहां से लंबी दूरी की ट्रेन चलेंगी और यही आकर खत्म होंगी. इस रेलवे टर्मिनल की छटा से अभिभूत पूर्व विधायक आई. निगली कहते हैं, ‘यह वाकई शानदार है, इसे देखकर गर्व का अहसास होता है.’ देश का पहला शानदार एयरकंडीशंड टर्मिनल लगभग पूरी तरह तैयार है. यह बेहद साफसुथरा है लेकिन आगे इसे इसी तरह साफसुथरा बनाए रखने की जिम्‍मेदारी हम सभी की है.